तुमको मेरे जैसे बहुत मिलेंगे, पर याद रखना उन सब में मैं कभी नहीं मिलूँगा

इतनी शिकायतें, इतनी शर्तें, इतनी पाबंदियाँ….. तुमने मोहब्बत की है या सौदा

किसी को चाह कर छोड़ देना कोई बड़ी बात नहीं, किसी को छोड़ कर भी चाहो तो पता चले इश्क़ किसे कहते हैं

इतना तो मैं समझ गयी थी उसको, वो जा रहा था और मैं हैरान भी ना थी

सोचा था बहुत टूट कर चाहेंगे, चाहा भी हमने और टूटे भी हम ही